The Verb (क्रिया)

The Verb (क्रिया)

वह शब्द जिससे किसी कार्य का करना या होना पता चलता है verb कहलाता है l

जैसे:-

run,          laugh,          swim,          write,          read

Kinds Of Verb (क्रिया के प्रकार)

   
Verb निम्नलिखित 2 प्रकार का होता है l
1- Finite Verb (सीमित क्रिया)
2- Non-Finite Verb (असीमित क्रिया)

1- Finite Verb (सीमित क्रिया)

   
ऐसी क्रियाएं जिनका प्रयोग tense तथा subject द्वारा सीमित होता है, finite verb कहलाते हैं l अर्थात अलग-अलग subject तथा tense में इनका अलग-अलग form प्रयुक्त होता है l
जैसे:-
(i)- Ram reads a book.
(ii)- You read a book.
(iii)- You write a book.
(iv)- You wrote a book.

2- Non-Finite Verb (असीमित क्रिया)

   
ऐसी क्रियाएं जिनका प्रयोग tense तथा subject द्वारा सीमित नहीं होता है, non-finite verb कहलाते हैं l अर्थात अलग-अलग subject तथा tense में इनका अलग-अलग form नहीं प्रयुक्त होता है l
जैसे:-
(i)- Ram wants to read a book.
(ii)- You went to Delhi to study.
(iii)- You write a song to sing.
(iv)- I shall buy a pen to write a letter.

Kinds of Finite Verb (सीमित क्रिया के प्रकार)

   
 Finite Verb निम्नलिखित 4 प्रकार का होता है l
 जैसे:-
 (i)- Transitive Verb (सकर्मक क्रिया)
 (ii)- Intransitive Verb (अकर्मक क्रिया)
 (iii)- Linking Verb (संयोजक क्रिया)
 (iv)- Auxiliary Verb (सहायक क्रिया)

1- Transitive Verb (सकर्मक क्रिया)

वे verbs जिनके साथ object आता है अर्थात उसका प्रभाव सिर्फ subject पर ही न पड़कर object पर भी पड़ता है, transitive verb कहलाते हैं l
जैसे:-
(i)- Mohan sings a song.
(ii)- We play cricket.
(iii)- The grass-cutter cut the grass.
(iv)- You learn your lesson.
जो शब्द bold letter में लिखे हुए हैं वे सब objects हैं और जो underline है वे सभी transitive verbs हैं l

2- Intransitive Verb (अकर्मक क्रिया)


ऐसी क्रियाएं जो अपना अर्थ देने के लिए object पर निर्भर नहीं रहती हैं अर्थात वे अपने में ही पूर्ण अर्थ रखती हैं और इनका प्रभाव सिर्फ subject पर पड़ता है, Intransitive Verb कहलाती हैं l
जैसे:-
(i)- Mohan laughs.
(ii)- We slept.
(iii)- The grass-cutter swims.
(iv)- You went to Delhi.

3- Linking Verb (संयोजक क्रिया)


ऐसे verbs जो अपना अर्थ देने के लिए किसी complement की सहायता लेते हैं Linking Verb कहलाते हैं l दुसरे शब्दों में कहें तो ऐसे verb जो सहायक क्रिया और मुख्य क्रिया दोनों का कार्य करते हैं Linking Verb कहलाते हैं l
जैसे:-
(i)- You are fool.
(ii)- Sita is a girl.
(iii)- He was ill.
(iv)- Sarita became a doctor.
जो शब्द bold letter में लिखे हुए हैं वे सब complements हैं और जो underline है वे सभी linking verbs हैं l

3- Auxiliary Verbs (सहायक क्रिया)


ऐसे verbs जो मुख्य क्रिया की सहायता करते हैं, सहायक क्रियाँए कहलाती हैं, अलग-अलग tense में अलग -अलग सहायक क्रियाँए होती हैं l मुख्य सहायक क्रियाएं इसप्रकार हैं-(is, are, am, was, were, has, have, had, will, shall,do, does, should, would, may, might, can, could, must, need, ought, dare, used to etc.)
जैसे:-
(i)- You are fool.
(ii)- Sita is a girl.
(iii)- He was ill.
(iv)- Sarita will go to a doctor.

Kinds Of Auxiliary Verb (सहायक क्रिया के प्रकार)
Auxiliary Verb निम्नलिखित 2 प्रकार का होता है l
1- Primary Auxiliary (प्राथमिक सहायक क्रियाएं)
 2- Modal Auxiliary (विधिसूचक सहायक क्रियाएं)

1- Primary Auxiliary (प्राथमिक सहायक क्रियाएं)


Primary Auxiliaries का प्रयोग है, हो, हूँ, हैं, था, थी, थीं, थे आदि के अर्थ में मुख्य क्रिया की सहायता करना होता है, प्रमुख Primary Auxiliries हैं-is, are, am, was, were, has, have, had, do, does, did etc. इनका प्रयोग विशेष रूप से Present और Past Tense में किया जाता है l
जैसे:-
(i)- Ram is reading a book.
(ii)- You were going there.
(iii)- You have done your work.
(iv)- They did not kill the lion.

2- Modal Auxiliary (विधिसूचक सहायक क्रियाएं)


ऐसी सहायक क्रियाएं जो कार्य करने की दशा और ढंग बताने में मुख्य क्रिया की सहायता करती हैं, Modal Auxiliaries कहलाती हैं l प्रमुख Modal Auxiliaries इस प्रकार हैं- will, shall, would, should, may, might, can, could, must, need, ought (to), dare, used (to) etc.
जैसे:-
 (i)- Ram will work hard.
 (ii)- We should take some exercise daily.
 (iii)- You ought to obey your parents.
 (iv)- I might jump into the river.