Ode to a Nightingale in Hindi

Summary of Ode to a Nightingale in Hindi

Ode to a Nightingale Read in English

१- Ode to a Nightingale की रचना 1819 में जॉन कीट्स द्वारा की गई थी

2- इसकी रचना तब हुई जब जॉन कीट्स अपने मित्र चार्ल्स ब्राउन के साथ रह रहे थे।

3- कुछ लोगों ने कहा कि लंदन में हैम्पस्टेड के स्पैनियार्ड्स इन के बगीचे में ओड लिखा हुआ हैl

4- जॉन कीट्स के मित्र चार्ल्स आर्मिटेज ब्राउन के अनुसार, कीट्स ने वेंटवर्थ प्लेस स्थित अपने घर के बगीचे में बेर के पेड़ के नीचे ओड लिखा।

5- जॉन कीट्स ने एक दिन में ओड लिखा।

6- यह कविता पहली बार जुलाई 1819 में एनल्स ऑफ द फाइन आर्ट्स में प्रकाशित हुई थी।

7- जॉन कीट्स ने 1819 के वसंत में चार्ल्स ब्राउन के बगीचे में एक बुलबुल को देखा।

8- इसने बगीचे में एक बेर के पेड़ में अपना घोंसला बनाई थी। हर दिन, यह मधुर गाती थी।

9- जॉन कीट्स को इसके गाने में एक सुकून और आनंद की अनुभूति हुई।

10 – एक दिन जॉन कीट्स ने नाश्ते की कुर्सी ली और बेर के पेड़ के नीचे 2 या 3 घंटे तक बुलबुल को देखने और उसका मधुर गीत सुनने के लिए बैठे रहे।

११ – ३ घंटे के बाद वह हाथ में कागज के कुछ टुकड़े लेकर घर लौटा, उसने चुपचाप उसे किताबों के पीछे फेंक दिया।

१२ – वे स्क्रैप पेपर संख्या में ४ या ५ थे।

१३- जॉन कीट्स ने सुंदर कोकिला के बारे में और उसके मधुर गीत के बारे में अपनी काव्य भावनाओं की रचना की थी।

14- यह एक व्यक्तिगत कविता है जो कीट्स की नकारात्मक क्षमता की स्थिति में यात्रा का वर्णन करती है।

१५- इस ओड में, हमें पता चलता है कि जॉन कीट्स के आनंद का स्वर और उनका आशावादी स्वभाव बदल गया था। वह ode में उदास और निराशावादी महसूस करता है।

16- यहाँ जॉन कीट्स बताते हैं कि सुख स्थायी नहीं हो सकता और मृत्यु जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है।

17- ओड टू ए नाइटिंगेल में 80 लाइनें होती हैं। यह जॉन कीट्स का सबसे लंबा ओड है। “Ode to a Nightingale” को आठ अलग-अलग छंदों में व्यवस्थित किया गया है, प्रत्येक दस पंक्तियों में।

18- इसमें ‘e on a Grecian Urn’ और ‘Ode on a Melancholy’ शामिल हैं।

19- इस कविता की शुरुआत एक अंधेरे जंगल में खड़े एक वक्ता से होती है। वक्ता एक बुलबुल का सुंदर गीत सुन रहा था।

20- कविता समय, मृत्यु, सौंदर्य, प्रकृति और मानवीय कष्टों की ओर ध्यान आकर्षित करती है (वक्ता इनसे बचना चाहता है और वह आराम पाने की कोशिश कर रहा है)।

21- उसने बुलबुल का गीत सुना और बुलबुल के गीत में सुकून पाया।
22- बुलबुल का गीत सुनकर उन्होंने अपने आप को अलग-थलग महसूस किया।
23- उन्होंने महसूस किया कि कविता बुलबुल और उसके गीत के साथ घनिष्ठ संबंध बनाएगी।
२४ - कुछ समय बाद बुलबुल उड़ गई, बुलबुल के गीत के इस वास्तविक अनुभव के बारे में वक्ता अनिश्चित है। उसने अपने आप से पूछा कि क्या दृष्टि वास्तविक थी या दिवास्वप्नl
25- शुरुआत में स्पीकर ने अपने दिल का दर्द बताया। उसका दिल खुशी से तड़पता है और उसकी इंद्रियों को एक दवा की तरह सुन्न कर देता है।                        
26- उसे ऐसा लगा जैसे उसने जहरीले हेमलॉक पौधे से पी ली हो या जैसे उसने अभी-अभी किसी तरह की अफीम का नशा किया हो और लेथे के पानी में गिर गया हो। (ग्रीक पौराणिक नदी जो मनुष्य को सब कुछ भूल जाती है।) 
27- इस कविता में कवि पक्षी के मधुर गीत को सुनकर अपने हृदय में उठती अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है।
28- वह चिड़िया के सुंदर स्थान की दुनिया की देखभाल की दुनिया से भागने की इच्छा से भर जाता है।
29- कविता मानव जीवन की दुखद तस्वीर प्रस्तुत करती है। इसमें कीट्स के जीवन की निराशा और निराशा को दर्शाया गया है। 
30- जब जॉन कीट्स ने यह कविता लिखी तो उनका हृदय दुख से भर गया, क्योंकि-
टॉम कीट्स, उनके भाई की मृत्यु हो गई थी।
उनके भाई रॉबर्ट कीट्स विदेश चले गए थे।
जॉन कीट्स अपने प्रिय फैनी ब्राउन के कारण हुए रहस्य और पीड़ा से पीड़ित थे।
31- बुलबुल का गीत शराब, हरियाली और देशी नृत्य के मसौदे की उनकी इच्छा को जगाता है।
३२ वह बुलबुल के साथ धुँधले जंगल में गायब होना चाहता है और मिट जाता है।
33- वह संसार के कष्टों - दुखों, चिंताओं, रोग और बुढ़ापे को भूल जाना चाहता है।
34- कवि बुलबुल से बात करता है, वह उसे उड़ने के लिए कहता है ताकि वह उसका पीछा कर सके। वह बताता है कि वह कल्पना और काव्य प्रतिभा के अपने दृश्यहीन पंखों के साथ उड़ जाएगा। 
35- वह पक्षी की पहचान ड्रायड (पेड़ की ग्रीक देवी) से करता है। कवि ने पक्षी को प्रकृति की सार्वभौम आवाज का प्रतीक और एक अमर संगीतमय आवाज के रूप में सोचकर पक्षी को अमर कर दिया।
३६- कवि बुलबुल की आवाज को बेचैनी, तनाव, दुख और दर्द की दवा के रूप में प्रस्तुत करता है।
37- कवि बाहरी दुनिया को, अपने और अपने दर्द को, पक्षी के बारे में अपनी कल्पना और उसकी मधुर आवाज के कारण भूल जाता है।
38- कविता के अंतिम भाग में कवि को पता चलता है कि बुलबुल और उसका मधुर गीत अमर है। ये लंबे अतीत में थे और भविष्य में रहेंगे। अतीत में किसानों और सम्राटों ने इसका आनंद लिया है।
39- अन्त में कवि को यह अनुभव होता है कि वह अपनी कल्पना के सहारे संसार के दुखों और कष्टों से स्वयं को मुक्त नहीं कर सकता।
४०- लास्ट में वक्ता एक बार फिर अपने अनुभव के बारे में अनिश्चित था कि यह सच्चा अनुभव था या यह दिन का सपना था।
41- इस प्रकार हम कह सकते हैं कि ओड टू ए नाइटिंगेल कला का प्रतीक है और नश्वर जीवन को समाप्त करता है।

Ode to a Nightingale Read in English